मधुशाला के रचयिता Harivansh Rai Bachchan Biography in Hindi - हरिवंश राय बच्च्चन की जीवनी

Harivansh Rai Bachchan Biography in Hindi: हरिवंश राय बच्च्चन उत्तर छायावाद युगीन कवि, लेखक तथा अध्यापक थें। बॉलीवुड के महानायक अभिनेता अमिताभ बच्चन इनके सुपुत्र हैं। साहित्य जगत के दिग्गज कवि हरिवंश राय बच्च्चन की रचना मधुशाला उनकी सबसे प्रसिद्ध कृति है। बच्चन जी को पद्म भूषण से सम्मानित किया गया वे राजसभा के मनोनीत सदस्य भी रह चुकें हैं। इस आर्टिकल Harivansh Rai Bachchan Biography in Hindi - हरिवंश राय बच्च्चन की जीवनी के बारे में विस्तार से बताएँगे।  

Harivansh Rai Bachchan Biography in Hindi - हरिवंश राय बच्च्चन की जीवनी

Harivansh Rai Bachchan Biography in Hindi

जीवन के मर्म को अत्यंत गहराई से समझने वाले डॉक्टर हरिवंश राय श्रीवास्तव उर्फ़ हरिवंश राय बच्चन का जन्म 27 नवंबर 1907 को वर्तमान प्रतापगढ़ के बाबूपट्टी में हुआ था। इनका जन्म एक अवधी हिन्दू कायस्थ परिवार में  हुआ था। इनके पिता प्रताप नारायण श्रीवास्तव बाबू पट्टी रानीगंज प्रतापगढ़ के मूल निवासी थे। हरिवंश राय की माता का नाम सरस्वती देवी था। 

बच्चन जी को भारत के महान कवियों में से एक माना जाता है। हरिवंश राय बच्चन की कवितायेँ कमाल की होती हैं तथा जिंदगी को एक नया आयाम देती नज़र आती हैं। उन्हें सबसे अधिक लोकप्रियता उनके काव्य मधुशाला से मिली।

    Harivansh Rai Bachchan Short Information in Hindi

    नाम  हरिवंश राय बच्चन 
    वास्तविक नाम  हरिवंश राय श्रीवास्तव 
    पेशा  कवि, लेखक 
    जन्म  27 नवंबर 1907
    जन्म स्थान  बाबूपट्टी प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश 
    मृत्यु  18 जनवरी 2003
    मृत्यु का कारण  सांस की बीमारी 
    मृत्यु के समय आयु  95 वर्ष 
    शैक्षिक योग्यता  परास्नातक तथा पी एचडी
    पिता का नाम  प्रताप नारायण श्रीवास्तव 
    माता का नाम  सरस्वती देवी 
    पत्नी का नाम  श्यामा बच्चन (1926–1936), तेजी बच्चन (1941–2007)
    पुत्र का नाम  अमिताभ बच्चन, अजिताभ बच्चन
    ग्रैंड सन का नाम  अभिषेक बच्चन 
    प्रमुख रचनाएँ  मधुशाला, निशा निमंत्रण, मिलन यामिनी, सूत की माला 

    Harivansh Rai Bachchan Education - हरिवंश राय बच्चन की शिक्षा 

    हरिवंश राय बच्चन की प्रारंभिक शिक्षा उनके गावं के ही पाठशाला से हुई। उनके जीवन में महत्वपूर्ण मोड़ तब आया जब वह उच्च शिक्षा के लिए इल्लाहाबाद गए और वहां इल्लाहाबाद यूनिवर्सिटी से अंग्रेजी में एम ए की डिग्री हांसिल की और तत्पश्चात विदेश जा कर कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी से अंग्रेजी साहित्य के विख्यात कवि डब्लू पी येट्स की कविताओं पर शोध कर पी. एचडी की डिग्री प्राप्त की। 

    यह भी पढ़ें: Mahadevi Verma Biography in Hindi
    यह भी पढ़ें: Goswami  Tulsidas Biography in Hindi

    Harivansh Rai Bachchan Wife - हरिवंश राय बच्चन की पत्नी 

    महज 19 वर्ष की आयु में 1926 में हरिवंश राय बच्चन की विवाह श्यामा बच्चन के साथ हो गया। उस समय शयामा जी की आयु 14 वर्ष थी लेकिन दोनों के बीच वैवाहिक जीवन का यह कार्यकाल बहुत अधिक समय तक नहीं चला। क्योंकि 1936 में ही टीवी के कारण श्यामा जी का स्वर्गवास हो गया। 

    Harivansh Rai Bachchan Biography in Hindi
    हरिवंश राय बच्चन की स्मृति में निकला गया डाकटिकट

    5 साल बाद 1941 में हरिवंश राय बच्चन जी का विवाह पंजाबन तेजी सूरी से हुआ, जो रंगमंच तथा गायन से जुड़ी हुई थीं। इसी वैवाहिक जीवन में तेजी बच्चन जी से अमिताभ बच्चन तथा अजिताभ बच्चन ने जन्म लिया। आगे चल कर अमिताभ बच्चन एक प्रसिद्ध अभिनेता के रूप में विख्यात हुए। 

    यह भी पढ़ें: Munshi Premchand Biography in Hindi
    यह भी पढ़ें: Rabindranath Tagore Biography in Hindi

    हरिवंश राय बच्चन द्वारा प्राप्त सम्मान (Harivansh Rai Bachchan Awards)

    हरिवंश राय बच्चन ने कई रचनाएँ लिखी हैं जिसमे से मधुशाला, मिलन यामिनी, निशा निमंत्रण, सूत की माला उनकी प्रमुख रचनाओं में से एक थी। वर्ष 1955 में वह दिल्ली चले गए जहाँ उन्हें भारत सरकार ने विदेश मंत्रालय में हिंदी विशेषज्ञ के रूप में नियुक्त किया। कुछ समय पश्चात् उन्हें राजसभा का मनोनीत सदस्य चुना गया।

    Harivansh Rai Bachchan Biography in Hindi
    Harivansh Rai Bachchan Signature

    1968 में बच्चन जी को उनकी कृति दो चट्टानें के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उन्हें सोवियतलैंड नेहरू पुरस्कार तथा कमल पुरस्कार जैसे कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। बिरला फाउंडेशन ने बच्चन जी को उनके आत्मकथा के लिए सरस्वती सम्मान से सम्मानित किया। इसके अलावा भारत सरकार ने 1976 में हरिवंश राय बच्चन को साहित्य एवमं शिक्षा के छेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया।   

    Harivansh Rai Bachchan Death (हरिवंश राय बच्चन की मृत्यु)

    वर्ष 2002 से ही बच्चन जी का स्वस्थ बिगड़ने लगा था। जनवरी 2003 में अचानक उन्हें साँस लेने में दिक्कत होने लगी और 18 जनवरी 2003 को 95 वर्ष की आयु में सांस की बीमारी के कारण हरिवंश राय बच्चन जी की मृत्यु हो गई। 

    यह भी पढ़ें: Surdas Biography in Hindi

    Harivansh Rai Bachchan Autobiography (हरिवंश राय बच्चन आत्मकथा)

    हरिवंश राय बच्चन की आत्मकथा उनके द्वारा चार खंडो में लिखी गई है। 
    • क्या भूलू क्या याद करूँ 
    • नीड का निर्माण फिर 
    • बसेरे से दूर
    • दशद्वारा से सोपाना तक संस्करण है।

    Harivansh Rai Bachchan Quotes in Hindi

    1. मैं छुपाना जानता तो जग मुझे साधु समझता 
    शत्रु मेरा बन गया है छल-रहित व्यवहार मेरा। 

    2. स्वप्न पर ही मुग्ध मत हो, सत्य का भी ज्ञान कर ले
    पूर्व चलने के बटोही, बाट की पहचान कर ले। 

    3. समझदार इंसान का दिमाग ज्यादा चलता है 
    और मुर्ख इंसान का जबान ज्यादा चलता है। 

    4. एक प्रबल धारा में हमको लघु तिनके-सा बहना होगा 
    साथी, सब कुछ सहना होगा। 

    5. एक अजीब सी दौड़ है ये ज़िंदगी 
    जीत जाओ तो कई अपने पीछे छूट जाते है,
    और हार जाओ तो अपने ही पीछे छोड़ जाते हैं।

    FAQ Related to Harivansh Rai Bachchan Life Story in Hindi

    1. हरिवंश राय बच्चन कौन थे ?
    उत्तर - हरिवंश राय बच्चन कवि तथा लेखक थे। 
    2. हरिवंश राय बच्चन का जन्म कब और कहाँ हुआ था ?
    उत्तर - हरिवंश राय बच्चन जी का जन्म 27 नवंबर 1907 को उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले के बाबू पट्टी में हुआ था।
    3. हरिवंश राय बच्चन की मृत्यु कब और कैसे हुई ?
    उत्तर - हरिवंश राय बच्चन की मृत्यु 18 जनवरी 2003 को सांस की बीमारी के कारण हुई थी। 
    4. हरिवंश राय बच्चन की प्रसिद्ध रचनाएँ कौन सी थीं ?
    उत्तर - मधुशाला, निशा निमंत्रण, मिलन यामिनी, सूत की माला
    5. हरिवंश राय बच्चन की दूसरी पत्नी का नाम क्या था ?
    उत्तर - बच्चन जी की दूसरी पत्नी का नाम तेजी बच्चन था। उन्होंने दूसरा विवाह पहली पत्नी श्यामा बच्चन के देहांत के कारण की। 
    6. हरिवंश राय बच्चन के पुत्र का नाम क्या था ?
    उत्तर - अमिताभ बच्चन, अजिताभ बच्चन
    7. हरिवंश राय बच्चन द्वारा लिखित एकमात्र डायरी का नाम ?
    उत्तर - प्रवास की डायरी बच्चन जी द्वारा लिखी एक मात्र डायरी है। 
    8. हरिवंश राय बच्चन की भाषा शैली क्या था ?
    उत्तर - बच्चन जी की भाषा शैली खड़ी बोली थी। 
    9. हरिवंश राय बच्चन की जीवन शैली कैसी थी ?
    उत्तर - बच्चन जी की जीवन शैली अत्यंत साधारण थी।

    Final Words About Harivansh Rai Bachchan in Hindi

    दोस्तों ! आशा करता हूँ आपको आर्टिकल Harivansh Rai Bachchan Biography in Hindi - हरिवंश राय बच्च्चन की जीवनी पसंद आया होगा। कृपया इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और कोई सुझाव हो तो कमेंट बॉक्स में लिखें। अपना बहुमूल्य समय देने के लिए धन्यवाद। 


    Post a Comment

    1 Comments

    1. Casino Game For Sale by Hoyle - Filmfile Europe
      › casino-games › casino-games 토토 gri-go.com › casino-games › casino-games Casino Game for filmfileeurope.com sale by Hoyle on Filmfile Europe. Free shipping wooricasinos.info for most countries, no download required. Check the deals casino-roll.com we have.

      ReplyDelete