Former President APJ Abdul Kalam Biography in Hindi - एपीजे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय

APJ Abdul Kalam Biography in Hindi: हेलो दोस्तों ! एपीजे अब्दुल कलाम जी को कौन नहीं जानता | स्वर्गीय एपीजे अब्दुल कलाम जी भारत के जाने माने वैज्ञानिक, इंजीनियर और भारत के पूर्व राष्ट्रपति थे | इन्होने बैलेस्टिक मिसाइल और भारतीय रक्षा यंत्रों में अपना विशेष योगदान दिया था | इन्होने हमे सिखाया अगर मनुष्य ठान ले तो वो कड़ी मेहनत और सच्ची लगन से कुछ भी हांसिल कर सकता है

माननीय एपीजे अब्दुल कलाम जी के व्यक्तित्व और उनके जीवन के संघर्षो को शब्दों में पिरो पाना अत्यंत कठिन कार्य है फिर भी आज हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से APJ Abdul Kalam Biography in Hindi के बारे में बताने जा रहें है | आशा करते है आपको पसंद आएगी | 

APJ Abdul Kalam Biography in Hindi - एपीजे अब्दुल कलाम का जीवन परिचय


APJ Abdul Kalam Biography in Hindi: मिसाइल मैन और जनता के राष्ट्रपति के नाम से जाने जाने वाले स्वर्गीय एपीजे अब्दुल कलाम जी का पूरा नाम अबुल पाकिर जैनुलअब्दीन कलम है | एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर 1931 को तमिलनाडु के रामेश्वरम में एक मुस्लिम परिवार में हुआ था

एपीजे अब्दुल कलाम के माता-पिता का नाम आशिमा तथा जैनुलआब्दीन था | इनकी माता गृहणी तथा इनके पिता एक नाविक थे | इसके अलावा इनके परिवार में इनके 3 बड़े भाई तथा एक बड़ी बहन थी | एपीजे अब्दुल कलाम के पिता अपनी नाव को मछुवारों को किराय पर देकर कमाते थे जिससे घर का खर्चा चलता था | आमदनी काम होने के कारण इनके परिवार को बहुत ही कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था

 

Quick APJ Abdul Kalam Biography in Hindi  

नाम - एपीजे अब्दुल कलाम 

पूरा नाम APJ Abdul Kalam Full Name - अबुल पाकिर जैनुलअब्दीन कलम

पिता का नाम APJ Abdul Kalam Father Name - जैनुलआब्दीन

माता का नाम APJ Abdul Kalam Mother Name - आशिमा

जन्म APJ Abdul Kalam Date of Birth - 15 अक्टूबर 1931

मृत्यु APJ Abdul Kalam Death Date - 27 जुलाई 2015

मृत्यु का कारण APJ Abdul Kalam Death Cause - दिल का दौरा 

जन्म स्थल - रामेश्वरम, तमिलनाडु 

राष्ट्रीयता - भारतीय 

धर्म - मुस्लिम 

पेशा - प्रोफेसर, वैज्ञानिक 

लम्बाई APJ Abdul Kalam Height - 163 CM 

आँखों का रंग - काला

बालों का रंग - सफ़ेद

 

एपीजे अब्दुल कलाम बचपन में घर-घर जा कर अख़बार बांटा करते थे जिससे मिले पैसे को वो अपने स्कूल की फीस तथा पढाई के अन्य खर्चो में इस्तेमाल करते थे | ये जब पांच वर्ष के थे तो गावं के जिला पंचायत स्कूल में इनका दीक्षा-संस्कार हुआ | एपीजे अब्दुल कलाम के शिक्षक इयादुराई सोलोमन ने कलाम से कहा की जीवन में सफल होना चाहते हो तो तीव्र इच्छा, आस्था और अपेक्षा को भलीभांति समझ को उसपर काबू पा लो | जब वे पांचवी कक्षा में थे तो एक दिन उनके अध्यापक उन सबको पक्षी के उड़ने की जानकारी दे रहे थे | लेकिन जब सबको समँझ नहीं आया तो अध्यापक सबको समुद्र तट पर ले गए और पक्षी को पकड़ क्र दिखते हुए समझाया तभी से एपीजे अब्दुल कलाम ने फैसला कर लिया की उन्हें बड़े होकर विमान विज्ञानं का अध्ययन करना हैं

एपीजे अब्दुल कलाम सुबह 4 बजे उठकर अपने अध्यापक से गणित की टूशन लेने जाया करते थे

 

एपीजे अब्दुल कलाम का वैज्ञानिक जीवन 

एपीजे अब्दुल कलाम बचपन से ही पायलट बनना चाहते थे | उन्होंने देहरादून में Air Force के लिए इंटरव्यू दिया पर उनका सिलेक्शन नहीं हो पाया क्योंकि 8 लोगों की पोस्ट थी और एपीजे अब्दुल कलाम 25 लोगों में 9वे नंबर पर आये

उसके बाद एपीजे अब्दुल कलाम दिल्ली गए और DRDO से वैज्ञानिक रूप में जुड़ गए और छोटे हेलीकाप्टर बनाने में अपना योगदान दियावर्ष 1972 में एपीजे अब्दुल कलाम Indian Space Research Organization से जुड़े और महान वैज्ञानिक विक्रम सारा भाई के साथ काम किया | एपीजे अब्दुल कलाम को परियोजना निदेशक के रूप में प्रथम स्वदेशी उपग्रह एस. एल. वी. 3rd प्रच्छेपित करने के श्रेय हासिल हुआ


अन्य व्यक्तियों के बारें में भी पढ़ें: 

वर्ष 1980 में कलाम ने रोहिणी उपग्रह को पृथ्वी की कक्षा के निकट स्थापित किया | इसरो लांच वेहिकल प्रोग्राम को सातवें आसमान पर पहुँचाने का श्रेय भी कलाम को ही जाता है | इन्होने अग्नि और पृथ्वी जैसे मिसाइल को स्वदेशी तकनीक से बनाया था | इसके अलावा एपीजे अब्दुल कलाम 1992 से 1999 तक रक्षामंत्री के सलाहकार तथा सुरक्षा शोध और विकास विभाग के सचिव भी रह चुकें हैं | कलाम ने वर्ष 1998 में कलाम ने पोखरण में दूसरे परमाणु परिक्षण में अहम भूमिका निभाई | एपीजे अब्दुल कलाम ने अंतरिक्ष और मिसाइल डेवलपमेंट में अहम् योगदान दिया इसलिए इन्हे मिसाइलमैन भी कहा जाता है |  

18 जुलाई 2002 को एपीजे अब्दुल कलाम भारत के 11वे राष्ट्रपति के रूप में निर्वाचित हुए थे | कलाम को बीजेपी और एनडीए ने उमीदवार के रूप में खड़ा किया था | कलाम 90 प्रतिशत मतों के साथ विजयी हुए थे | उन्होंने 25 जुलाई 2002 को कलाम ने संसद भवन में राष्ट्रपति पद की शपत ली और इनका कार्यकाल 25 जुलाई 2007 को समाप्त हुआ था | एपीजे अब्दुल कलाम एक मात्र ऐसे राष्ट्रपति थे जो साइंटिस्ट था | एपीजे अब्दुल कलाम को भारत के सर्वोच्च नागरिक सामान भारत रत्न के साथ-साथ कई प्रतिष्ठित पुरस्कारों से सम्मानित किया गया था

 

एपीजे अब्दुल कलाम का निधन (APJ Abdul Kalam Death)

एपीजे अब्दुल कलाम का निधन मेघालय के शिलॉन्ग में 27 जुलाई 2015 को हो गया था | वो शिलॉन्ग के एक कॉलेज आईआईएम शिलॉन्ग में लेक्चर देने गए थे लेक्चर देते हुए एपीजे अब्दुल कलाम को दिल का दौरा पड़ा और वे अचानक गिर गए | तुरंत कलाम को अस्पताल ले जाया गया जहा पर डॉक्टरों ने उन्हें मृत्यु घोसित कर दिया और देश एक और महान पुरुष मृत्यु की गोद में सो गया | एपीजे अब्दुल कलाम को उनके पैतृक निवास रामेश्वरम ले जाया गया जहाँ पर 30 जुलाई 2015 को उनका अंतिम संस्कार किया गया | एपीजे अब्दुल कलाम संस्कार में 350000 से अधिक लोगों ने भाग लिया था |  

एपीजे अब्दुल कलाम के मृत्यु के दिन राष्ट्रीय शोक तो हुआ था पर राष्ट्रीय हॉलिडे नहीं हुआ था क्योंकि एपीजे अब्दुल कलाम ने कहा था की जिस दिन मेरी मृत्यु हो उस दिन छुट्टी की जगह काम होना चाहिए

 

एपीजे अब्दुल कलाम अवार्ड (APJ Abdul Kalam Award)

1981 - पद्म भूषण 

1990 - पद्म विभूषण 

1997 - भारत रत्न 

1997 - इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार 

1998 - वीर सावरकर पुरस्कार 

2000 - रामानुजन पुरस्कार 


अन्य व्यक्तियों के बारें में पढ़ें:

 

एपीजे अब्दुल कलाम द्वारा लिखी पुस्तक (APJ Abdul Kalam Written Books)

एपीजे अब्दुल कलाम ने अपने विचारों को साहित्य के रूप में अपने पुस्तकों में समाहित किया है जो इस प्रकार हैंहमने नीचे सारे पुस्तक के लिंक दिए हैं जिसे आप Amazon से खरीद सकते है और जो पुस्तक हिंदी में उपलब्ध नहीं है उसकी इंग्लिश वर्जन का लिंक दिया गया है |

इंडिया 2020: विज़न फॉर दी नई मिलेनियम 

इग्नाइटेड माइंड मेनिफेस्ट फॉर चेंज 

मिशन इंडिया 

इन्स्परिंग थॉट 

माय जर्नी 

विंग्स ऑफ़ फायर 

यू आर बॉर्न टू ब्लॉसम 

एडवांटेज इंडिया 

दी लुमिनस पार्क 

 

Final Word to APJ Abdul Kalam Biography in Hindi 

दोस्तों आपको APJ Abdul Kalam Biography in Hindi कैसी लगी हमें कमेंट के माध्यम से जरूर बताये और इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें |



Post a Comment

0 Comments