Knowledge Hindi

Thursday, September 9, 2021

Osho (Rajneesh) Biography in Hindi, Age, Wife, Girlfriend, Family, Net Worth - ओशो बायोग्राफी इन हिंदी

Osho (Rajneesh) Biography in Hindi, Age, Wife, Girlfriend, Family, Net Worth - ओशो बायोग्राफी इन हिंदी

Osho (Rajneesh) Biography in Hindi: Osho एक सूफी, आध्यात्मिक शिक्षक तथा रजनीश आंदोलन के नेता हैं, जो आचार्य रजनीश, भगवान श्री रजनीश के नाम से भी प्रसिद्ध हैं। अपने सम्पूर्ण जीवनकाल के दौरान ओशो एक विवादस्पद धार्मिक आंदोलन के रूप में बने रहे। वे रूढ़िवादी धार्मिकता के कड़े आलोचक थे। इस वजह से ये जल्द ही विवाद के घेरे में गए और सारी उम्र विवादित बने रहे। 

इसके अलावा वे समाजवाद, महात्मा गाँधी तथा हिन्दू धर्म के रूढ़िवादी स्वरुप के भी प्रखर आलोचक रहे। आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से Osho (Rajneesh) Biography in Hindi, Age, Wife, Girlfriend, Family, Net Worth के बारे में विस्तार से बताएँगे। 

Osho (Rajneesh) Biography in Hindi, Age, Wife, Girlfriend, Family, Net Worth 

Osho (Rajneesh) Biography in Hindi

ओशो का वास्तविक नाम चंद्र मोहन जैन था। इनका जन्म 11 दिसम्बर 1931 को मध्य प्रदेश के रायसेन जिले के छोटे से गावं कुचवाड़ा में हुआ था। ओशो के पिता का नाम बाबुलाल जैन उर्फ़ स्वर्गीय देवतार्थ भारती तथा माता का नाम सरस्वती बाई जैन उर्फ़ माँ अमृत सरस्वती था। इसके अलावा ओशो की फैमिली में इनके पिता के 11 बच्चो में ओशो सबसे बड़े थे। इनके 6 भाई तथा 4 बहने थीं। 

इनका बचपन ननिहाल में बीता। जब यह महज 7 वर्ष के थे, तब इनके नाना का निधन हो गया, जिसके पश्चात् ओशो अपने माता-पिता के साथ रहने गाडरवारा चले गए। Rajneesh Osho के अनुसार इनके प्रारंभिक विकास में इनकी नानी का महत्वपूर्ण योगदान रहा क्योंकि इनकी नानी ने इन्हे सम्पूर्ण स्वतंत्रता दी तथा रूढ़िवादी विचारधारों से इन्हे दूर रखा। 

     

    Quick Look to Osho (Rajneesh) Biography in Hindi

    वास्तविक नामचंद्र मोहन जैन 

    उपनाम - आचार्य रजनीश, ओशो 

    पेशा - आध्यात्मिक टीचर तथा रजनीश आंदोलन के नेता 

    जन्म - 11 दिसम्बर 1931 

    जन्म स्थान - रायसेन, मध्य प्रदेश 

    मृत्यु (Osho Death) - 19 जनवरी 1990 

    मृत्यु का कारण (Osho Death Cause) - हार्ट फेलियर 

    मृत्यु के समय आयु (Osho Age) - 58 वर्ष 

    धर्म - हिन्दू 

    राष्ट्रीयता - भारतीय 

    शैक्षिक योग्यता - दर्शनशास्त्र में परास्नातक 

    पिता का नाम (Osho Father Name) - बाबुलाल जैन उर्फ़ स्वर्गीय देवतार्थ भारती 

    माता का नाम (Osho Mother Name) - सरस्वती बाई जैन उर्फ़ माँ अमृत सरस्वती

    भाई (Osho Brother) - विजय कुमार खाते, शैलेंद्र शेखर, अमित मोहन खाते, अकलंक कुमार खाते, निकलंक कुमार जैन

    बहन (Osho Sister) -  रसा कुमारी, स्नेहलता जैन, निशा खाते, नीरू सिंघाई

    वैवाहिक स्थिति - अविवाहित 

    गर्लफ्रेंड (Osho Girlfriend) - शीला अम्बालाल पटेल उर्फ़ माँ आनंद शीला और माँ प्रेम निर्वाणो उर्फ़ माँ योग विवेक (अफवाहों के अनुसार)

     

    Rajneesh Osho Education - ओशो की शिक्षा 

    प्रारम्भ से ही Osho बगावती सोच रखने वाले व्यक्ति थे, जिसे परंपरागत और रूढ़िवादी तौर तरीके नहीं भाते थे। और धीरे-धीरे नास्तिक बन गए। 19 वर्ष की आयु में ओशो ने जबलपुर के Hitkarini College में प्रवेश लिया। किन्तु वहां के एक अध्यापक से वाद-विवाद होने के कारण उन्हें जबलपुर के ही D. N. Jain College में ट्रांसफर कर दिया गया। यहाँ से दर्शनशास्त्र में बी. . की डिग्री हांसिल करने के पश्चात् Osho ने मध्यप्रदेश के सागर विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया और 1957 में दर्शनशास्त्र में एम. की डिग्री हांसिल की।   


    यह भी पढ़ें: JayaKishori Biography in Hindi

    यह भी पढ़ें: Swami Vivekananda Inspirational Biography in Hindi

     

    Rajneesh Osho Wife and Girlfriend - ओशो वाइफ एंड गर्लफ्रेंड 

    ओशो की कोई पत्नी नहीं थी क्योंकि वो अविवाहित थे। हालाँकि ऐसा माना जाता है की Sheela Ambalal Patel या Ma Anand Sheela, Ma Prem Nirvano जैसी कुछ महिलाओं के साथ इनके सम्बन्ध थे पर इस बात की कोई पुष्टि नहीं है। ओशो की ना तो कोई पत्नी थी और ही बच्चे। 

     

    Biography of Osho in Hindi - ओशो की कहानी 

    Osho जब अपनी स्नातक की पढाई कर रहे थे तब वे अपने खाली समय में लोकल न्यूज़ पेपर में असिस्टेंट एडिटर का काम करते थे। उसी समय उन्होंने जबलपुर के वार्षिक धर्म सम्मेलन में भाग लेना शुरू किया और सार्वजनिक रूप से बोलना शुरू किया। इसी सम्मलेन के में Rajneesh Osho ने यह दावा किया की जब वे 21 वर्ष के थे तब 21 मार्च 1953 को उन्हें आध्यात्मिक ज्ञान की प्राप्ति हुई। 

    अपनी पढाई पूरी करने के पश्चात् ओशो जबलपुर विश्वविद्यालय में पढ़ाने लगे और अपने शिष्यों को अपने दर्शन और धर्म के उदार मिश्रण का पालन करने के लिए आकर्षित करने लगे। 1966 में अपने अध्यायक के पद को त्याग कर एक आध्यात्मिक गुरु की भूमिका पर जोर देने लगे। 

     

    Osho Ashram Pune 

    1974 में अपने शिष्यों के साथ पुणे चले गए और वहां 6 एकड़ में अपना आश्रम स्थापित किया। वर्ष 1980 में ओशो पर एक कट्टर हिन्दू द्वारा हमला किया गया जो उनकी आध्यात्मिकता और आलोचनात्मक विचारधारा से सहमति नहीं रखता था। कहा जाता है की पुलिस की अछमता के कारण आरोपी को कभी दोषी नहीं ठहराया गया।

     

    Osho Ashram America   

    स्वास्थ्य में खराबी आने के कारण ओशो ने पुणे छोड़ कर अमेरिका जाने की सोची, ताकि उनका इलाज अच्छे से हो सके। ओशो के शिष्यों ने Antelope, Oregon में एक बड़ा प्लाट ख़रीदा। यहाँ पर उनकी इच्छा एक बड़ा आश्रम बनवाने की थी। मगर यहाँ के स्थानीय निवासियों और आश्रम के लोगो में काफी मनमुटाव रहता था। यह दो संस्कृतियों के बीच मनमुटाव था। वहां के निवासी आश्रमवासियो से खतरा महसूस करते था जिसकी वजह से उस आश्रम की परमिट रद्द कर दी गई। इसके अलावा ओशो के अनुयायियों पर वह के रेस्टुरेंट में साल्मोनेला (एक तरह का एंटेरोबैक्टीरिया) फ़ैलाने जैसे भी आरोप लगाए। और उनके दो अनुयायिओं पर Charles Turner की हत्या का भी आरोप लगा। Turner ने उनके खेत बंद करने की कोशिश की थी। 


    यह भी पढ़ें: Rabindranath Tagore Biography in Hindi

    यह भी पढ़ें: प्रख्यात साहित्यकार Munshi Premchand Biography in Hindi

     

    Osho Pune Returne 

    वर्ष 1987 में वहां के अधिकारिओं की जांच से भयभीत हो कर Osho ने वह जगह छोड़ दी और दक्षिण कैरोलिना चले गए। यहाँ ओशो ने अमेरिका के Immigration कानून का उलंघन किया। उन्होंने झूठे विवाह और अन्य गतिविधियों द्वारा इस कानून का उलंघन किया। इस कारण Acharya Rajneesh Osho को वहां से निर्वासित कर दिया गया। इसके पश्चात् उन्होंने पुणे लौटने का फैसला किया और इस दौरान उन्होंने अपना नाम Rajneesh से बदल कर Osho रखने का फैसला किया। यह एक जापानी शब्द है, जिसका अर्थ हैमास्टर” 

     

    Osho Philosophy 

    ओशो का जन्म एक जैन परिवार में हुआ। किन्तु उन्होंने किसी एक धर्म पर विश्वास करते हुए सभी धर्म के तत्वों को आपस में मिला दिया। इनके अनुसार ईश्वर हर चीज़ में है। ओशो ने एक तरह के मैडिटेशन की शुरुआत की जिसमे अतीत, अहंकार और भविष्य की चिंता सब पीछे छूट जाय। 

    कई आध्यात्मिक गुरुओं की विचारधारा के विपरीत osho ने यह बताया की सेक्स आध्यात्मिक प्रगति में बाधा नहीं है। हालाँकि उनके शिष्यों ने साधारण जीवन शैली का नेतृत्व किया। 


    Rajneesh Osho Controversy in Hindi

    1. ओशो ड्रग्स के आदी थे। इस बात का खुलासा उन्होंने पूर्व इंटरव्यू में किया है। विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं के दर्द से निपटने के लिए वैलियम तथा नाइट्रस ऑक्साइड का इस्तेमाल करते थे। 
    2. उन्हें वर्ष 1984 में अमेरिका के बायो टेरर अटैक में षड्यंत्रकारी गतिविधि में संलिप्त पाते हुए ₹26 करोड़ का जुर्माना और पांच साल की सजा सुनाई गई थी।
    3. इस घटना के बाद संयुक्त राज्य अमेरिका तथा विश्व के 21 देशों में ओशो के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया था। 
    4. उनका आश्रम कुछ खास तरह के सामूहिक उपचार के लिए कुख्यात हो गया था, जिसमे विभिन्न तरह के आक्रमक शारीरिक एवं सेक्सुअल गतिविधियां शामिल थीं।
    5. वर्ष 1970 में, भारत सरकार ने Osho के आश्रम की कर मुक्त रियायत समाप्त कर दी और इसके साथ-साथ विदेशों से आश्रम में आने वाले लोगों के वीजा को प्रतिबंधित कर दिया गया।
    6. रजनीशियों ने अमेरिका के Immigration कानूनों से बचने के लिए 400 से अधिक फर्जी शादियां कीं। 


    Famous Books Written by Osho

    1. The way of Tao
    2. Dhammapada: The way of buddha
    3. Hsin hsin ming: The book of nothing
    4. Krishna: The man and his philosophy
    5. Sufis: The people of the path
    6. Diya tale andhera
    7. Enlightenment: The only revolution
    8. From sex to superconsciousness
    9. Isa upanishad
    10. Ek omkar satnam

     

    Osho Net Worth 

    Bhagwan Shree Rajneesh के पास लगभग 100 मिलियन डॉलर की Property थी। ओशो अपने कारो के प्रेम के लिए जाने जाते थे। ऐसा माना जाता है की ओशो के पास 93 से भी अधिक Rolls Royce थीं। 



    उनकी हर गाड़ी अलग-अलग कलर की थी और वह हर दिन अलग कलर की गाड़ी ले के चलते। ओशो के पास इतना पैसा था की वह हर महीने 2 Rolls Royces, एक प्राइवेट जेट प्लेन और महंगी घडी खरीद सकते थे। क्योंकि उनके अनुयायी उन्हें पर्याप्त डॉलर में चंदा देते थे। 

     

    Rajneesh Osho Death 

    रजनीश ओशो की मृत्यु 19 जनवरी 1990 को 58 वर्ष की आयु में हुई। इनकी मृत्यु का कारण हार्ट फेलियर था। 


    यह भी पढ़ें: रामचरितमानस के रचयिता Goswami Tulsidas Biography in Hindi

    यह भी पढ़ें: भारत के वीर सपूत Chandra Shekhar Azad Biography in Hindi

     

    Final Words to Osho (Rajneesh) Biography in Hindi

    दोस्तों
    ! आपको हमारा Osho (Rajneesh) Biography in Hindi, Age, Wife, Girlfriend, Family, Net Worth कैसा लगा, हमें कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं। कृपया इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करें। अपना बहुमूल्य समय देने के लिए धन्यवाद।